Network Marketing Frauds In India | FDSA News

2917
network marketing frauds in india
network marketing frauds in india

HINDI

डायरेक्ट सेलिंग की आड़ में चल रहे धोखा धड़ी के प्लान से सावधान

“डायरेक्ट सेलिंग” एक बेहद साफ़-सुथरा व्यवसाय है, लेकिन हमारे व्यवसाय में धोखेबाज कंपनियों एवं धोखेबाज लोगों (लीडर्स) की मौजूदगी बड़ी चिंता का विषय है। ऐसी धोखेबाज कंपनियां और धोखेबाज लोग (लीडर्स) इस व्यवसाय में आने वाले लोगों को रातों-रात अमीर बनाने के सपने दिखाते हैं और किसी न किसी प्रकार से सिर्फ पैसे लेकर कई गुना मुनाफे सहित एक निश्चित समय सीमा में वापस करने का वायदा करके लोगों को अपने झांसे में ले आते हैं। इस प्रकार की कंपनियां कभी सोना, कभी क्लिक, कभी सर्वे, कभी विज्ञापन, कभी क्रिप्टोकरंसी, कभी तेल कंपनी आदि के नाम पर मूर्ख बनाती हैं !

एक कंपनी चल रही है जो दिखावे भर के लिए प्रॉडक्ट का मुखौटा लगाए हुए है और अपने बिज़नेस प्लान में रातों रात अमीर बनने का दावा पेश कर रही है – जिसमें रूपये लगाने पर 12 या 18 महीने तक लगातार आप को आमदनी मिलती रहेगी या आप दो अन्य लोगों को प्रॉडक्ट खरीदवायें तो अगले 12 महीने या 18 महीने तक एक निर्धारित रकम आप को मिलती रहेगी! आपकी बेवकूफ बनाने के लिए सैलरी प्लान, सिंगल लेग-प्लान, ऑटो-फिल पूल-प्लान जैसी अलग-अलग स्कीमें भी कंपनी बता रही है।

एक अन्य कंपनी कहती है – “दोस्तो आ गया है 21 वी सदी का सबसे बैस्ट प्लान जो नैटवर्क मार्कटिगं का इतिहास बदल रहा है  दोस्तो मै आपको विश्वास दिलाना चाहता हूँ कि आपने ऐसा प्लान न तो कभी देखा होगा और न ही कभी सुना होगा 💯 तो फिर देर किस बात की है शुरू हो जाओ इतिहास रचने के लिये – तो जल्दी कीजिये अपने अपने शहर मे टॉप ID की पोजिशन लेने के लिये !! दोस्तो हो सकता है कि आपको ये जॉइनिंग अमाउंट ज्यादा लगे एक बार प्लान को ध्यान से देखना नही समझ आए तो एक बार पूरी जानकारी लेना क्योंकि आपका कैरियर सैट करने में इससे बढ़िया option नहीं हो सकता”

सावधान – ऐसे दावे कर रही उपर्युक्त दोनों योजनाएं फर्जी लाइनों पर हैं।
ऐसी योजनाएं भारत सरकार के डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन्स 2016 के अनुसार नहीं हैं, लेकिन इन्हें मनी सर्कुलेशन (बैनिंग) एक्ट 1978 के तहत अपराध माना जाता है। वास्तव में आमदनी को प्रॉडक्ट की बिक्री से प्राप्त किया जाना चाहिए, जोकि कानूनी रूप से प्रत्येक व्यक्ति के लिए अपने और टीम के कुल कारोबार के माध्यम से वैध है। किसी अन्य प्रकार की आय जो डायरेक्ट सेलिंग दिशानिर्देशों के अनुरूप नहीं है, कानूनी मान्यता में नहीं है!

आज, बाजार में ऐसी कई धोखाधड़ी की स्कीमें चल रही हैं।

डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री के अधिकारों और गरिमा के लिए “फेडरेशन ऑफ डायरेक्ट सेलिंग एसोसिएशन” (FDSA) लंबे समय से संघर्षरत है ! इस संस्था ने ग्राहकों के अधिकारों को सुरक्षित करने के लिए समय-समय पर अपनी तरफ से भरपूर प्रयास किये हैं। “क्लिक” आधारित एक बड़े फर्ज़ीवाड़े का भांडा-फोड़ करके तथा क्रिप्टो करेंसी की चेतावनी जारी करके लोगों को बचाने की कोशिश की है।
फर्ज़ीवाड़े में इस्तेमाल होने वाले प्रोडक्टों की एक नेगेटिव प्रॉडक्ट लिस्ट जून 2016 में जारी की गई जिसमें लोगों को धोखा देने के लिए कंपनियों द्वारा उपयोग किए गए उत्पाद शामिल थे। हमारी यह कोशिश अनसुनी नहीं रही; सरकार ने 2017 में उसके महत्व को समझा है और 2018 में घोटाले चलाने वाली धोखाधड़ी कंपनियों पर कार्रवाई होती दिख रही है – जो कंस्यूमर प्रोटेक्शन के लिए नेगेटिव प्रोडक्ट लिस्ट की बेहद उपयोगी भूमिका को रेखांकित करता है !!

हम जन साधारण को चेतावनी देना चाहते हैं कि कोई भी कंपनी अगर किसी भी प्रकार के सैलरी-प्लान, सिंगल-लेग-प्लान, ऑटो-फिल पूल-प्लान या इन जैसी कोई भी आमदनी (इनकम) का वायदा कर रही है तो वह गलत है। ऐसी आय को बढ़ावा देने वाली कंपनियां, उनके मालिकों और उनके प्रमोटरों और उनके लीडरों को परिणाम भुगतने होंगे।

ऐसी कंपनियों से दूर रहें यहाँ आपकी कड़ी मेहनत का पैसा डूबने का पूरा खतरा है। यह वही रास्ता है जिस पर एक कंपनी ने 6 लाख से अधिक लोगों को मूर्ख बनाकर 3600 करोड़ रुपये उगाहे और पैसा बनाया। यह कंपनी अब कानूनी शिकंजे में है। लेकिन आम जनता को अपने पैसे वापस मिलने की संभावना नहीं है।
ऐसी कंपनियां समय-समय पर बाजार में दिखाई देती रहती हैं। वास्तव में ये कंपनियां नाम बदल कर आती रहती हैं, लेकिन घोटाले करने वालों के चेहरे वही रहते हैं। उपभोक्ता की सुरक्षा के लिए, नेगेटिव प्रोडक्ट लिस्ट बनाने के बाद, एफडीएसए ने नेगेटिव कंपनियों की एक सूची बनाई है, जो कानून प्रवर्तन प्राधिकरणों और सरकार की जानकारी में लाई गई है।

अब, एफडीएसए ने लीडरों की एक नेगेटिव लिस्ट तैयार करनी शुरू कर दी है – जिसमें उन लीडरों के नाम शामिल हैं जो हर फर्ज़ीवाड़े में शामिल रहते हैं और घोटालों की श्रृंखला को जन्म देते हैं। यह लिस्ट भी कानून प्रवर्तन प्राधिकरणों और सरकार को जानकारी के लिए बनाई जा रही है।

ऐसे में एक और अपील हम आप सबसे करना चाहते हैं कि डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री को स्वच्छ करने का अभियान आप सबके सहयोग के बिना मुमकिन नहीं है। कंपनियां भले ही अलग-अलग क्यों न हों लेकिन मेहनतकश एवं भोले-भाले लोगों को चूना लगाने वाले लोगों के चेहरे एक जैसे ही रहते हैं ! यह एक प्रकार की दीमक है जो इंडस्ट्री में रहते हुए इंडस्ट्री को खोखला कर रही है और ये तथाकथित लीडर्स कंपनी के भाग जाने से पहले यही चेहरे जोर-शोर से पूरे जोश में स्टेज पर आकर अपनी सफलता के कसीदे पढ़ते हैं और कंपनी के भाग जाने के बाद मासूम सा चेहरा बनाकर बोलते हैं कि कंपनी ने मुझे भी तो ठगा है, और लोग इन पर विश्वास कर के माफ़ कर देते हैं और ये लीडर्स बच जाते हैं फिर से लोगों को ठगने के लिए !

आइए मिलकर अपनी इंडस्ट्री को स्वच्छ बनाएं !

FDSA NEGATIVE PRODUCT LIST

Download Negative Product List Click Here 

English

BEWARE OF THE CHEATING PLANS RUNNING UNDER THE GUISE OF DIRECT SELLING.

“Direct Selling” is a very clean business, which is bitten by the presence of fraudulent companies and thier leaders in the trade. This is a matter of serious concern. Such fraudulent companies and deceitful people sell dreams to people with a promise of becoming rich overnight; and collect money on the pretext of returning manifolds in a short time frame. People get trapped in their hoax and lose their hard earned savings. Such companies make a fool of the people in the name of gold, click, survey, advertising, crypto currencies and sometimes oil company etc.

One running company – shows the product for name sake only and claim to make you rich overnight in their business plan, in 12 months or 18 months or if you promote two others You will get a fixed amount for the next 12 months or 18 months! There are different terms like salary plan, single-leg-plan, auto-fill pool-plan to make a fool of yours!

The other company claims —– “Friends come to the 21st Century’s Best Plan, which is changing the history of network marketing.

Friends, I want to assure you that you have never seen such a plan nor will you ever hear it Then what’s the delay in getting started to create history – So hurry up to take the top ID position in your city !! Friends, you might find these joining amounts more than once, if you do not understand the plan carefully, then take full information once because this can be a good option for you to set up your career.”

Beware – both the above plans making such claims are on the fraudulent lines.

Such plans are not in accordance with the Government of India’s Direct Selling Model Guidelines 2016, but are considered as voilaiton of law under The Prize Chits & Money Circulation (Banning) Act 1978. In fact, the income should be derived only out of the sale of the product volumes, which is valid for every person through his and his team’s turnover. Any other mechanism or type of income that does not conform to Direct Selling Model Guidelines is not in legal recognition!

Today, many more such fraudulent schemes are going on in the market.

For the rights and dignity of the direct selling industry, FDSA has been struggling for a long time! This organisation has made a lot of efforts from time to time to protect the rights of the customers and tried to save gullible people by bursting a big scam based on “click” and issuing crypto currency warnings.

A “Negative Products List” was published by FDSA during June 2016 which contained the products used by the companies for duping the people. It did not remain unheard; the government understood its importance in 2017 and today, in 2018, the action on fraud companies running scams are in sight – which underlines hughly useful role of the Negative Product List in consumer protection!!

A strong warning is being issued to all consumers that any company promoting any kind of salary-plan, single-leg-plan, auto-fill pool-plan or any such income – the companies, their owners and their promoters and their leaders will suffer the consequences!

Stay away from such companies. There is a full risk of drowning your hard earned money. This is the path on which one company has fooled more than 6 lakh people to the tune of Rs 3600 crore and minted money. This company has been booked by the Law Enforcing Authorities. But the general public is not likely to get their money back.

Such companies keep appearing in the market from time to time. These companies change the names, but the faces of scamesters behind the show remain the same! For the safety of consumers, after Negative Product List, FDSA initiated the process preparing a list of Negative Companies also to bring in the notice of the Law Enforcing Authorities & the Government.

Now, FDSA has started compiling a Negative List of the Leaders – wherein the names of those leaders who are repeated offenders and are instrumental to give rise to the series of scams, will appear for the information to the Law Enforcing Authorities & the Government.

This is a type of termite which is eating away our industry. The so-called Leaders running such companies, show full enthusiasm on the stage just to grab the money. Later they appear with innocent face after the company runs away, claiming that the company has betrayed them also. People trust them and forgive them. These leaders survive to cheat people again!

Under such circumstances, all of you are advised to take part in the Mission of Disciplined Direct Selling in India which is possible only with everyone’s involvement. Come on….. Let’s make the industry clean!

Loading...

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of